banner

होम
English

 

संबंधित लिंक:

  • डिजिटल हस्ताक्षर क्या है?
    वर्तमान में, नागरिक द्वारा जमा किए जाने वाले कई सारे आवेदनों या प्रपत्रों पर भौतिक हस्ताक्षर की आवश्यकता होती है। डिजिटल हस्ताक्षर पारंपरिक कागज-आधारित हस्ताक्षर को लेता है और इसे इलेक्ट्रॉनिक "फिंगरप्रिंट" में बदल देता है। यह "फिंगरप्रिंट" या कूट संदेश दस्तावेज़ और हस्ताक्षरकर्ता दोनों के लिए अद्वितीय है और उन्हें एक साथ ला देता है। संक्षेप में कहें तो डिजिटल हस्ताक्षर का वही कार्य है जो हस्तलिखित हस्ताक्षर का। डिजिटल हस्ताक्षर के कुछ मुख्य विशेषताओं में गैर-प्रत्याख्यान, समग्रता और प्रामाणिकता है। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 असममित क्रिप्टो सिस्टम पर आधारित डिजिटल हस्ताक्षर करने के लिए आवश्यक कानूनी वैधता प्रदान करता है।

  • ई-हस्ताक्षर सेवा
    ऑनलाइन प्रामाणिक रिकॉर्ड और दस्तावेजों की उपयोगकर्ता द्वारा माँग पर उनके लिए उपलब्ध की जा रही विविध आईसीटी सेवाओं के साथ युग्मित आईसीटी उपकरणों का बड़े पैमाने पर उपयोग। डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाणपत्र और ई-हस्ताक्षर दस्तावेज प्राप्त करने की वर्तमान विधियाँ बोझिल हैं।

    भारत सरकार अपने द्वारा जारी गजट अधिसूचना ( देखें- REGD. NO. D. L.-33004/99 दिनांक 28 जनवरी 2015) एक ऐसी विधि की घोषणा की है जिसमें प्रमाणन प्राधिकारी को आधार आईडी रखने वाले नागरिकों के लिए ई-हस्ताक्षर सेवा मुहैया कराने की सुविधा है।

    ई-हस्ताक्षर सेवा का उद्देश्य कानूनी रूप से मान्य और नागरिकों को सुरक्षित रूप से अपने दस्तावेजों पर तत्काल हस्ताक्षर करने के लिए ऑन-लाइन मंच प्रदान करना है। इसमें शामिल दो प्रमुख चुनौतियाँ हैं- क) उपयोगकर्ता का प्रमाणीकरण तथा ख) हस्ताक्षर करने व जाँचने का विश्वसनीय तरीका। पहली चुनौती से पार पाने के लिए ‘आधार कार्ड’ आधारित ऑनलाइन आथेन्टिकेशन प्रणाली को अपनाया गया है तथा उपयोगकर्ता दस्तावेज पर सुरक्षित रूप से हस्ताक्षर के लिए तथा विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए पब्लिक की इंफ्रास्ट्रक्चर (PKI) का उपयोग किया गया है।

    आधार आईडी रखने वाले नागरिक अपने दस्तावेजों को डिजिटल रूप से हस्ताक्षरित करने के लिए ई-हस्ताक्षर सेवा में अपने दस्तावेजों को अपलोड करने में सक्षम होंगे। दस्तावेज को अपलोड करने के बाद इसमें आधार सेवा के उपयोग से उपयोगकर्ता का सत्यापन किया जाएगा और उपयोगकर्ता तथा दस्तावेज पर हस्ताक्षर के लिए एक जोड़ी की (पब्लिक की और एक निजी की) जनरेट की जाएगी। तत्पश्चात उपयोगकर्ता को डिजिटल रूप से हस्ताक्षरित दस्तावेज और डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा।

    सी-डैक अपने ई-हस्ताक्षर पहल के माध्यम से वैध आधार आईडी तथा पंजीकृत मोबाइल नंबर रखने वाले नागरिकों को ऑनलाइन अपने दस्तावेजों पर डिजिटल हस्ताक्षर करने में सक्षम बनाता है।

  • ई-हस्ताक्षर सेवा के लाभ

    1. सुरक्षित ऑनलाइन सेवा
      ई-हस्ताक्षर सेवा आईटी अधिनियम के अनुसार प्रमाणन प्राधिकारी नियंत्रक (CCA) द्वारा लाइसेंसी सर्टिफाइंग एथोरिटी (CA) द्वारा दी जाती है। सी-डैक इस प्रकार से सीए की भूमिका निभाता है तथा संपूर्ण हस्ताक्षर प्रक्रिया की सुरक्षा को सुनिश्चित कराता है।

    2. भौतिक सत्यापन की आवश्यकता नहीं
      पारंपरिक सीए के लिए प्रत्यक्ष सत्यापन की आवश्यकता होती है और इसमें लोगों को असुविधा होती है। इसके विपरीत ई-हस्ताक्षर ‘आधार कार्ड’ की ई-आथेंटिकेशन प्रणाली के माध्यम से एक ऑनलाइन एवं आसान सेवा मुहैया करता है।

    3. हार्डवेयर टोकन की आवश्यकता नहीं
      ई-हस्ताक्षर एक ऑनलाइन सेवा है और इसके लिए अब किसी पारंपरिक हार्डवेयर टोकन की कोई आवश्यकता नहीं है।

    4. प्रमाणित करने के लिए एक से अधिक तरीके
      ई-हस्ताक्षर सेवा वन-टाइम-पासवर्ड (ओटीपी जो आधार डेटाबेस में पंजीकृत मोबाइल पर भेजा जाता है) या बॉयोमैट्रिक (फिंगरप्रिंट या आँख की पुतली का स्कैन) जैसे उपयुक्त तरीकों के आधार पर सत्यापन करती है। वर्तमान में ओटीपी आधारित सत्यापन के लिए ई-हस्ताक्षर सेवा उपलब्ध है।
    5. गोपनीयता
      ई-हस्ताक्षर सेवा पूरे दस्तावेज के बजाय दस्तावेज के केवल सार (hash) को इस्तेमाल करती है जिससे कि दस्तावेजों की गोपनीयता सुनिश्चित होती है।

ई-हस्ताक्षर के लिए विंडोज़ ऐप डाउनलोड करें
.SIG फाइल के लिए विंडोज़ व्यूअर डाउनलोड करें
वेब इंटरफेस के उपयोग से किसी दस्तावेज़ पर ई-हस्ताक्षर करें
सी-डैक सीए सीपीएस डाउनलोड करें
सीआरएल डाउनलोड करें

 

संबंधित लिंक:

डिजिटल हस्ताक्षर क्या है?
ई-हस्ताक्षर सेवा
ई-हस्ताक्षर सेवा के लाभ